item-thumbnail

दूर करें कमर का दर्द

March 19, 2018

डॉ. अनुराग विजयवर्गीय लेखक आयुर्वेद चिकित्सक हैं। यह एक प्रकार का आर्थराइटिस रोग है, जो कि रीढ़ की हड्डी में पैदा होता है। यह बहुत ही धीमी गति से बढ़त...

item-thumbnail

वसंत ऋतु स्वस्थ रहने के लिए पंचकर्म कराईए

March 15, 2018

डॉ. दीप नारायण पाण्डेय लेखक इंडियन फारेस्ट सर्विस में वरिष्ठ अधिकारी हैं। कम से कम पांच हज़ार वर्ष पूर्व का एक गहन विचार-विमर्श है, जो भारत के दो धुरं...

item-thumbnail

जब डिस्क के सफल आयुर्वेदिक उपचार के बाद एलोपैथिक डाक्टर बगलें झांकने लगे

March 15, 2018

वै​द्य अनुराग सिंह राजपूत स्लिप डिस्क की एक रोगिणी जो पूर्णत: बिस्तर पर थीं, कमर एवं पैरों में तीव्र वेदना, करवट लेना तो दूर, दर्द के कारण हिल तक नहीं...

item-thumbnail

एलोपैथी नहीं, आयुर्वेद में है किडनी का संपूर्ण इलाज

March 8, 2018

आशुतोष कुमार सिंह अभी तक हम एलोपैथिक दवाओं के साइडइफेक्ट यानी कि दुष्प्रभावों से ही परिचित थे, परंतु अब प्रमुख बीमारियों का इलाज करने में उसकी अक्षमता...

item-thumbnail

धूपन करें, मच्छर भगाएं

July 14, 2017

सुरेंद्र चौधरी से.नि. क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी, उत्तर प्रदेश मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया। ये तीनों बीमारियाँ मच्छरों के द्वारा होती है...

item-thumbnail

स्वस्थ रह कर उठाएं वर्षा का आनंद

July 14, 2017

डॉ. नितिन अग्रवाल वरिष्ठ आयुर्वेदाचार्य एवं प्रबंध निदेशक, ब्लिस आयुर्वेदा वर्षा ऋतु में बीमारियां तेजी से फैलती हैं। इसके दो प्रमुख कारण हैं। सबसे पह...

item-thumbnail

ऋग्वेद में वर्णित रोग और निदान

July 14, 2017

कृपाशंकर सिंह लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। ऋग्वेद की ऋचाओं में कुछेक रोगों के नाम भी मिलते हैं। इनमें यक्ष्मा, राजयक्ष्मा, हृदय रोग, दनीमा (बवासीर) ह...

item-thumbnail

सफल जीवन के लिए आवश्यक है प्रकृति का ज्ञान

May 18, 2017

करतार सिंह धीमान लेखक भारतीय आयुर्वेद अनुसंधान परिषद के महानिदेशक हैं। आयुर्वेद का सिद्धांत है कि जैसा हम इस प्रकृति में देखते हैं, ठीक वैसा ही हमारे ...

item-thumbnail

कैसे करें त्वचा की आयुर्वेदकि देखभाल

December 22, 2016

राजेश कोटेचा लेखक प्रसिद्ध आयुर्वेदाचार्य हैंँ त्वचा एक संस्कृत शब्द है और यह त्वक् संवरणे धातु से बना है जिसका अर्थ है शरीर को ढंकने वाला। त्वचा वात ...

item-thumbnail

प्रकृति से पाएं जीवन में सफलता

October 22, 2016

अभिमन्यू कुमार लेखक अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक हैं। मनुष्य के जन्म के समय उसकी प्रकृति का निर्धारण होता है। विशेषकर गर्भाधान के समय ही...

1 2