item-thumbnail

सिमरिया धाम में लगेगा महाकुंभ

July 14, 2017

श्याम किशोर सहाय लेखक लोकसभा टी.वी. के संपादक हैं। यह सुनकर आपको थोड़ा आश्चर्य हो सकता है कि रामेश्वरम में कुछ वर्ष पूर्व कुंभ उत्सव मनाया गया था। देश...

item-thumbnail

बूंद बूंद की चिंता

July 14, 2017

जवाहरलाल कौल लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। अब जेठ का महीना आ गया है। तपती दोपहरी कितनी त्रासद होती है इस का अनुभव दिल्ली जैसे महानगरों में रहने वालों को हो...

item-thumbnail

प्राचीनकालीन राजनयिक एवं गुप्तचर व्यवस्था

July 13, 2017

पूनम नेगी लेखिका स्वतंत्र पत्रकार हैं। किसी भी देश की सुरक्षा में वहां के गुप्तचर तंत्र का अहम योगदान होता है। आज हमारे देश की गुप्तचर प्रणाली अत्यन्त...

item-thumbnail

सौर-रश्मियों का मंगलपर्व मकर संक्रान्ति

March 27, 2017

पूनम नेगी लेखिका पत्रकार हैं। सूर्यदेव सृष्टि में केवल प्रकाश ही नहीं फैलाते वरन् एक नवजीवन-नयी चेतना का भी संचार करते हैं। सूर्याेदय के साथ ही मानव क...

item-thumbnail

धर्मग्रंथों पर आधारित है भारतीय राजनीति भी

December 22, 2016

आनंद कुमार लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। युद्ध शुरू होने के लिए शायद आपने दुंदुभी बजाये जाने की बात कभी सुनी-पढ़ी होगी। ऐसा माना जाता है कि ये दुंदुभी एक रा...

item-thumbnail

आस्था और स्नान की कार्तिक पूर्णिमा

December 22, 2016

अरुण तिवारी लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। कार्तिक पूर्णिमा – कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की अंतिम तिथि है मौसम के बदलाव का एक खास बिंदु! शरद गई, हेमंत ...

item-thumbnail

भारत की वर्ण व्यवस्था

December 22, 2016

बजरंग मुनि लेखक प्रख्यात सामाजिक, राजनैतिक विचारक हैं। यह निर्विवाद है कि भारत की अति प्राचीन सामाजिक व्यवस्था पूरी दुनिया की तुलना में अधिक विकसित तथ...

item-thumbnail

तब लुप्त नहीं होगी कोई सरस्वती

July 6, 2016

सुरेंद्र बंसल लेखक पर्यावरणविद् हैं। नदी संस्कृति के मामले में भारत कभी सिरमौर था। शिव, हिमालय के अधिष्ठाता हैं। दुनिया के किसी भी एक हिस्से की तुलना ...

item-thumbnail

बस्तर के इतिहास में रामायण की पैठ

0 January 21, 2015

राजीव रंजन प्रसाद लेखक प्रसिद्ध ऐतिहासिक उपन्यासकार हैं। रामायण को ले कर प्रगतिशील कहे जाने वाले समाज के अपने पूर्वाग्रह हैं तथा उसके बीच अंतर्निहित अ...

1 2