item-thumbnail

राष्ट्ररक्षा ही है राजनीति

July 8, 2019

रवि शंकर कार्यकारी संपादक राजनीति का सामान्य अर्थ है राज करने की नीति। राज करना यानी लोगों पर शासन करना नहीं होता। राज करने का अर्थ है लोगों को अभय या...

item-thumbnail

प्राचीन भारत की सैन्य परंपरा

July 8, 2019

राजबहादुर शर्मा लेखक से.नि. ब्रिगेडियर और रक्षा मामलों के विशेषज्ञ हैं। भारतीय संस्कृति विश्व की सबसे पुरानी सामाजिक संस्कृति है। वायुपुराण में भरत की...

item-thumbnail

भारतीय संस्कृति में सुरक्षा-सम्बन्धी चिन्तन

July 8, 2019

प्रवीण कुमार द्विवेदी लेखक संस्कृत के विद्धान हैं। सुरक्षा एक ऐसी अवस्था का नाम है जिसके रहने पर ही कोई भी कार्य सम्पादित हो सकता है। इसका तात्पर्य अच...

item-thumbnail

लोकनियुक्त नहीं, लोकनियंत्रित हो शासन

May 17, 2019

बजरंग मुनि लेखक सामाजिक विचारक हैं। तानाशाही और लोकतंत्र बिल्कुल विपरीत प्रणालियां हैं। तानाशाही में शासन का संविधान होता है और लोकतंत्र में संविधान क...

item-thumbnail

लोकतंत्र बनाम चुनावतंत्र कल, आज और कल

May 17, 2019

रवि शंकर कार्यकारी संपादक हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में जाने जाते हैं। निश्चय ही यह पद बड़ा ही गौरवपूर्ण जान पड़ता है। इतिहास की बात करें...

item-thumbnail

भव्य राम मंदिर बनाना ही है राजधर्म

April 10, 2019

रामेश्वर प्रसाद मिश्र पंकज लेखक वरिष्ठ विचारक हैं। हमें यह अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए कि राम मंदिर संबंधी मुद्दे के मूल में हमारे राज्य के आधारभूत स्...

item-thumbnail

क्या संकट में हैं भारतीयता और परिवार भाव ?

January 10, 2019

रवि शंकर कार्यकारी संपादक परिवार भारत का वैशिष्ट्य माना जाता है। यह इसलिए कि परिवार के भाव का जो विस्तार भारतभूमि में हुआ, वह अन्यत्र कहीं और नहीं हुआ...

item-thumbnail

बढ़ते एकल परिवार, बढ़ते बाल अपराध कैसे तय हो बच्चों की सुरक्षा ?

January 10, 2019

अर्चिता भारद्वाज लेखिका स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। बच्चों को भगवान का रूप माना जाता है, भविष्य का महान व्यक्ति माना जाता है। साथ ही साथ किसी भी राष्ट्र ...

item-thumbnail

परिवार तोड़क कानून

January 10, 2019

बजरंग मुनि लेखक सामाजिक विचारक हैं। जब से भारत में अंग्रेजों का आगमन हुआ तब से ही उन्होंने भारत की बहुसंख्यक हिन्दू आबादी को वर्गों में बांटकर वर्ग नि...

1 2 3 6