item-thumbnail

राज्य, समाज, व्यक्ति और निन्यानबे का फेर

September 22, 2017

रवि शंकर कार्यकारी संपादक बाप बड़ा न भैय्या, सबसे बड़ा रुपैय्या। यह कहावत जिसने भी बनाई होगी, उसने सोचा नहीं होगा कि कभी एक समय पूरा देश उसकी कहावत के...

item-thumbnail

सिल्क रोड नहीं, भारतीय उत्तरापथ

July 13, 2017

चीनी साम्राज्यवादी ओबोर बनाम भारतीय सहकारवादी ओसोर रवि शंकर कार्यकारी संपादक चीन ने ओबोर की बात कर कर अंतरराष्ट्रीय जगत में एक नई हलचल पैदा कर दी है। ...

item-thumbnail

भारत को समझने की शर्तें

May 18, 2017

रवि शंकर कार्यकारी संपादक भारत के इतिहास पर, प्राचीन से लेकर आधुनिक तक, हजारों की संख्या में पुस्तकें मिल जाएंगी, हजारों विद्वान मिल जाएंगे, परंतु एक ...

item-thumbnail

धरा पर उतरी सरस्वती की धारा

March 27, 2017

प्रशान्त भारद्वाज लेखक हरियाणा सरस्वती धरोहर विकास बोर्ड के डिप्टी चेयरमेन हैं। सन् 1885 में पुरातत्त्ववेत्ता ओल्डमैन तथा भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण ...

item-thumbnail

सरस्वती कहां है ?

March 27, 2017

सूर्यकांत बाली लेखक वरिष्ठ पत्राकार हैं। हमारे देश में इतिहास का जितना संबंध उपलब्ध तथ्यों से है, उसका उतना ही गहरा संबंध उपलब्ध स्मृतियों से भी है। औ...

item-thumbnail

जानें चीन का सच-चीन और भारत में क्या है साझा

December 22, 2016

रवि शंकर कार्यकारी संपादक भारत और चीन दोनों पड़ोसी देश ही नहीं हैं, बल्कि दोनों में काफी कुछ साझा भी है। जब भी विश्व की प्राचीन सभ्यताओं की चर्चा होती ...

item-thumbnail

महाशक्ति, आर्थिक विकास और चीन के मिथक

December 22, 2016

अजीत कुमार लेखक सेंटर फॉर सिविलाइजेशनल स्टडीज में शोधार्थी हैं। क्या आप जानते हैं कि क्षेत्रफल में भारत से तीन गुणा बड़ा चीन कभी भारत से छोटा भी रहा है...

item-thumbnail

झारखण्डी संस्कृति देशज सौन्दर्य का आलोक

October 22, 2016

रणेन्द्र लेखक झारखंड सरकार में खेल निदेशक हैं। झारखण्ड की अपनी विशिष्ट संस्कृति निर्विवाद रूप से यहाँ की देशज आदिवासी संस्कृति है। दामोदर घाटी की गोद ...

item-thumbnail

चंगेज खाँ मिथकों को तोड़ता एक अप्रतिम नायक

July 6, 2016

रवि शंकर कार्यकारी संपादक इतिहास और मिथक का अंतर समझना हो तो केवल भारत का इतिहास पढ़ने से काम नहीं चलेगा। इसके लिए थोड़ा बहुत दुनिया का भी इतिहास पढ़ना प...

item-thumbnail

राष्ट्रीय एकता और आस्था का संगम महाकुम्भ

March 21, 2016

राजीव मल्होत्रा लेखक इनफिनिटी फाउंडेशन से जुड़े हैं। भारत आदिकाल से पर्वो और उत्सवों का देश रहा है जो भारत की श्रेष्ठता और समृद्धि को प्रकट करता है। भ...

1 2 3