item-thumbnail

यूरोपीय सच्चाई का भारतीय संस्करण

December 14, 2018

जय प्रकाश सिंह लेखक केन्द्रीय विश्वविद्यालय हि.प्र. में सहायक प्राध्यापक हैं। भारतीय दस्तावेजों को यूरोपीय नजरिए से व्याख्यायित करने के औपनिवेशिक चलन ...

item-thumbnail

वाम मार्ग आधुनिक समाज का असली चेहरा

December 7, 2018

आनंद कुमार जैसे और क्षेत्रों में समूह-दल होते हैं, वैसे ही लेखन में भी होते हैं। संगठित क्षेत्रों में तो राजनैतिक और गैर राजनैतिक हितों की रक्षा के लि...

item-thumbnail

भारतीय संग्रहालय और उपनिवेशवाद

March 15, 2018

समीक्षक किसी भी देश की कला, संस्कृति और इतिहास की प्रदर्शनी वहाँ के संग्रहालय होते हैं। संग्रहालय यानी एक ऐसा स्थान जहाँ उस देश अथवा स्थान के सांस्कृत...

item-thumbnail

भारतीय रसायनशास्त्र का इतिहास

April 4, 2017

आनंद कुमार लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। प्रफुल्ल चन्द्र रे रसायन शास्त्रा के प्रोफेसर थे। सन 1897 में रसायनशास्त्रा के ही एक विद्वान उनसे प्रेसीडेंसी...

item-thumbnail

पॉजिटिव साइंसेज ऑफ हिंदूज

April 4, 2017

जब भी कभी भारतीय विज्ञान की चर्चा होती है, कुछेक संस्कृत ग्रंथों का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। उदाहरण के लिए वैशेषिक और सांख्य दर्शनों को विज्ञान व...

item-thumbnail

प्राचीन भारत का विज्ञान समझाती पुस्तकें

April 4, 2017

जब भी कभी भारत के गौरवमय अतीत की चर्चा की जाती है, अक्सर यह कहा जाता है कि भारत अध्यात्म में तो काफी आगे रहा है, कुछेक वैज्ञानिक सिद्धांत भी संभवत: पत...

item-thumbnail

भारतीय ज्ञान परंपरा की उद्गाता ‘वैदिक संपत्ति’

April 4, 2017

भारत पर सभ्यतागत आक्रमणों में एक बडा आक्रमण यहां की ज्ञान परंपरा पर किया गया था। भारतीय ज्ञान परंपरा का सबसे बडा आधार थे वेद और इसलिए अंग्रेजों सहित स...

1 2