item-thumbnail

रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज

November 6, 2019

नेहा जैन लेखिका स्वतंत्र पत्रकार हैं। भारतीय संस्कृति को अपनी परम्पराओं, विशालता, जीवन्तता के कारण सर्वत्र सराहा गया है व विश्वभर में विद्यमान संस्कृत...

item-thumbnail

दक्षिण के तुलसी संत त्यागराज

March 27, 2017

शशिप्रभा तिवारी लेखिका पत्रकार हैं। भारतीय शास्त्राीय संगीत में हिंदुस्तानी शास्त्राीय संगीत और कर्नाटक शास्त्राीय संगीत की दो धाराओं की तरह प्रवाहित ...

item-thumbnail

झारखंड के कलाकार

October 22, 2016

शशिप्रभा तिवारी लेखिका स्वतंत्र पत्रकार हैं। पहाड़ों, घाटियों, नदियों, झरने, जंगल और हरी-भरी वादियों वाले झारखंड की प्राकृतिक सुष्मा आकर्षक है। यहां की...

item-thumbnail

राजारानी मंदिर और संगीत महोत्सव

March 21, 2016

शशिप्रभा तिवारी लेखिका स्वतंत्र पत्रकार हैं। ऐतिहासिक धरोहरों को सुरक्षित रखने और उन्हें आकर्षण का केंद्र बनाने के लिए देश के अलग-अलग प्रदेशों में अने...

item-thumbnail

विरासत सहेजने को ध्रुपद यात्रा

March 21, 2016

नाज खान लेखिका स्वतंत्र पत्रकार हैं। चंदेरी की मनोरम शांत वादियां कभी बैजू बावरा के राग मल्हार में गाए ध्रुपद से गूंजा करती थीं। आज वही आवाज खामोशी से...

item-thumbnail

वैज्ञानिक से बनीं शास्त्रीय गायिका

January 28, 2016

शशिप्रभा तिवारी लेखिका स्वतंत्र पत्रकार हैं। संगीत का ललित कलाओं में खास स्थान है। संगीत हमेशा से संस्कृति का साथी रहा है। संगीत का स्तर संस्कृति के स...

item-thumbnail

कुमार जी जहां भी होते नुमायां होते

October 12, 2015

सारा मालवा एक गांव है और उस गांव की कांकड़ पर सामने वाले नीले विन्ध्याचल से आये पत्थरों से बना एक ओटला है। इस ओटले को काली धरती की कोख से निकली पीली म...

item-thumbnail

गायकी के ‘भीम’ सेन

186 March 25, 2015

{jathumbnail off} गिरिजेश कुमार उस गरजती आवाज को याद कीजिए। संगीत के आकाश में गूंजती ऐसी आवाज़ जो संगीत के दिग्गजों को भी नतमस्तक कर देती है। गमक से भ...