item-thumbnail

वेद या ब्राह्मण के विरोधी नहीं थे भगवान बुद्ध

July 8, 2019

आचार्य अग्निव्रत नैष्ठिक, लेखक प्रसिद्ध वैदिक विद्वान हैं। भगवान् बुद्ध एक विख्यात महापुरुष थे। वे वेद, आर्य अथवा ब्राह्मण आदि के विरोधी नहीं बल्कि उन...

item-thumbnail

विजय के प्रतीक हैं कलात्‍मक स्‍तंभ

May 17, 2019

श्रीकृष्ण ”जुगनू” लेखक इतिहासविद् हैं। शिल्प का एक वातायन स्तंभों की ओर भी खुलता है। अच्छे-अच्छे स्तंभ यानी खंभे। लकड़ी से लेकर पाषाण तक क...

item-thumbnail

सागों का सरदार है बथुवा सबसे अच्छा आहार है बथुवा

February 16, 2019

साग और रायता बना कर बथुवा अनादि काल से खाया जाता रहा है लेकिन क्या आपको पता है कि विश्व की सबसे पुरानी महल बनाने की पुस्तक शिल्प शास्त्र में लिखा है क...

item-thumbnail

आजानुबाहु राम

December 14, 2018

विपुल विजय रेगे करोड़ों-अरबों में एक ही मनुष्य आजानुबाहु क्यों होता है। अभी अवतारों को लेकर कई बातें चली हैं। अवतारों के साधारण मनुष्य होने पर ज़ोर दि...

item-thumbnail

सोमनाथ मंदिर के बाणस्तम्भ का रहस्य

December 14, 2018

इतिहास बडा चमत्कारी विषय है। इसको खोजते खोजते हमारा सामना ऐसे स्थिति से होता है, की हम आश्चर्य में पड़ जाते हैं। पहले हम स्वयं से पूछते हैं, यह कैसे स...

item-thumbnail

झाला मन्ना की प्रेरक कहानी

October 18, 2018

फेसबुक पर आनंद कुमार सन 1920 के दौर में जब बंदूकों की सलामी वाले राजवाड़े होते थे तब झाला वंश के राजपूत तेरह बंदूकों की सलामी वाले धांगध्रा पर शासन कर...

item-thumbnail

आज भी उपयोगी है महाभारत की युद्ध कला

October 13, 2018

आनंद कुमार लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। भारतीय युद्ध कला को समझना हो तो हमें महाभारत पढऩी चाहिए। महाभारत के युद्ध में तीसरे दिन कौरवों की सेना गरुड़ ...

1 2