अंतरराष्ट्रीय मुद्राओें पर हिंदू देवी-देवताओें का अंकन

स्वाधीनता के पश्चात अपने देश में कागज़ी मुद्राओं और सिक्कों पर हिंदू देवी-देवताओं का अंकन नहीं किया गया है। स्वाधीनता से पूर्व, देशी रियासतों में मुद्राओं पर हिंदू देवी-देवताओं का होता रहा है, लेकिन स्वाधीनता के पश्चात सेक्युलरिज़्म के नाम पर ऐसा कभी नहीं किया गया। यूपीए के शासनकाल के दौरान पर एक और दो रुपये के सिक्के पर क्रॉस का चिह्न अवश्य अंकित किया गया था। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि अपने देश से बाहर किन-किन देशों में और कब हिंदू-देवी देवताओं के चित्रोंवाली मुद्रा जारी की गई है।

थाईलैण्ड :
भारत के पूर्व में म्यांमार को स्पर्श करता हुआ थाईलैण्ड है। प्रथम शती ईसवी से भारतीयों द्वारा यहाँ सनातन वैदिक हिंदू संस्कृति का प्रसार हुआ। धीरे-धीरे बौद्धों के प्रभाव में आते-आते थाईलैंड हिंदू-देश से बौद्ध-देश में परिवर्तित हो गया। आजकल पंथनिरपेक्ष होने और लगभग 94 प्रतिशत बौद्ध-जनसंख्या के उपरान्त भी यहाँ सनातन हिंदू धर्म का पूरा-पूरा सम्मान होता है। प्राचीन राजधानी अयुथिया (अयोध्या) से लेकर नवीन राजधानी बैंकॉक का ‘सुवर्णभूमि एयरपोर्ट’ और ‘गरुड़ एयरवेज’, मार्ग में ‘लवपुरी’ तथा ‘विष्णुलोक’ नगर भी पड़ते हैं। इसी प्रकार ‘स्वर्णपुरी’, ‘इन्द्रपुरी’ नामक नगर भी सनातन हिंदू-धर्म से ओतप्रोत हैं। भगवान् विष्णु का वाहन गरुड़ थाईलैण्ड का राष्ट्रीय चिह्न है। यही नहीं, पंथनिरपेक्ष थाई-सरकार में अनेक मंत्रालयों/विभागों के प्रतीक-चिह्न में हिंदू-देवताओं, यथा— ब्रह्मा-विष्णु-शिव, श्रीराम, गणेश, वरुण, विश्वकर्मा, आदि के चित्र हैं। थाई-सरकार ने समय-समय पर इनपर सिक्के जारी किए हैं।

दिनांक 28 मार्च, 2000 को थाईलैण्ड के नेशनल इकोनॉमिक ऑफ़ सोशल डेवलपमेंट बोर्ड की 50वीं वर्षगाँठ पर थाई-सरकार ने एक विशेष द्विधातु स्मारक-मुद्रा जारी किया था जिसमें एक तरफ तत्कालीन थाई-नरेश राम नवम् और दूसरी तरफ बोर्ड के प्रतीक-चिह्न का चित्र था। उल्लेखनीय है कि थाईलैण्ड के नेशनल इकोनॉमिक ऑफ़ सोशल डेवलपमेंट बोर्ड के प्रतीक-चिह्न में ब्रह्मा, विष्णु और महेश का चित्र है।

दिनांक 14 जनवरी, 2011 को थाईलैण्ड के नेशनल इकोनॉमिक ऑफ़ सोशल डेवलपमेंट बोर्ड की 60वीं वर्षगाँठ पर थाई-सरकार ने पुन: एक द्विधातु स्मारक-मुद्रा जारी की थी जिसमें एक तरफ तत्कालीन थाई-नरेश राम नवम और दूसरी तरफ बोर्ड के प्रतीक-चिह्न का चित्र था।

दिनांक 06 जुलाई, 2000 को थाईलैण्ड के वित्त मंत्रालय की 80वीं वर्षगाँठ पर हाथ में तलवार लिए भगवान् विश्वकर्मा के चित्रवाली द्विधातु मुद्रा जारी की गई थी। इसके एक ओर महाराज अतुल्यतेज भूमिबोल और दूसरी तरफ भगवान् विश्वकर्मा का चित्र अंकित था।

दिनांक 02 सितम्बर, 2002 को थाईलैण्ड के सिंचाई विभाग की शताब्दी के अवसर पर थाई-सरकार ने एक विशेष द्विधातु स्मारक-मुद्रा जारी की थी जिसमें एक तरफ महाराज चुलालौंगकॉर्ण और भूमिबोल अतुल्यतेज तथा दूसरी तरफ सिंचाई-विभाग के प्रतीक-चिह्न का चित्र था। उल्लेखनीय है कि थाईलैण्ड के सिंचाई-विभाग के प्रतीक-चिह्न में वरुणदेव का चित्र है।

दिनांक 06 जनवरी, 2012 को थाईलैण्ड के ललितकला विभाग की शताब्दी के अवसर पर थाई-सरकार ने एक विशेष द्विधातु स्मारक-मुद्रा जारी की थी जिसमें एक तरफ महाराज वजीरबुद्ध और दूसरी तरफ ललितकला विभाग के प्रतीक-चिह्न का चित्र था। उल्लेखनीय है कि थाईलैण्ड के सिंचाई-विभाग के प्रतीक-चिह्न में भगवान् गणेश का चित्र है।

दिनांक 19 अक्टूबर, 2012 को थाईलैण्ड के परिवहन-मंत्रालय की शताब्दी के अवसर पर थाई-सरकार ने एक विशेष द्विधातु स्मारक-मुद्रा जारी की थी जिसमें एक तरफ महाराज वजीरबुद्ध और दूसरी तरफ परिवहन मंत्रालय के प्रतीक-चिह्न का चित्र था। उल्लेखनीय है कि थाईलैण्ड के सिंचाई-विभाग के प्रतीक-चिह्न में रथ पर सवार भगवान् श्रीराम का चित्र है।

इण्डोनेशिया :
सन् 1944 में जापानी सरकार ने जापान-अधिकृत डच ईस्टइंडीज (सम्प्रति इण्डोनेशिया) में 100 रुपये की मुद्रा जारी की थी जिसपर पक्षीराजगरुड़ पर आसीन चतुर्र्भुज भगवान् विष्णु का चित्र था।

इसी प्रकार 1944 में जापानी सरकार ने जापान-अधिकृत डच ईस्टइंडीज में 10 रुपये की भी मुद्रा जारी की थी जिसपर भगवान् बुद्ध का चित्र छपा था।

लगभग 87 प्रतिशत मुस्लिम-जनसंख्या और दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम देश होने के बाद भी इंडोनेशिया में भगवान् गणेश को कला, शास्त्र और बुद्धि का देवता माना जाता है। सन् 1998 में 20,000 मूल्य के इण्डोनेशियाई रुपिया पर इण्डोनेशिया के पहले शिक्षा मंत्री श्री की हजर देवान्तर (1889-1959) के साथ गणेश जी का चित्र छपा था।

सन् 1964 में 1 मूल्य के इण्डोनेशियाई रुपिया पर एक ओर राष्ट्रपति सुकर्णो और दूसरी ओर धनुर्धारी भगवान् श्रीराम का चित्र छपा था।

संयुक्तराज्य अमेरिका :
महान् आध्यात्मिक गुरु महर्षि महेश योगी (1914-2008) द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका के ‘आयोवा’ राज्य में विजयदशमी, तदनुसार 07 अक्टूबर, 2000 को स्थापित ‘विश्व शान्ति राष्ट्रम्’ (दी ग्लोबल कंट्री ऑफ़ वर्ल्ड पीस) एक हिंदू-राज्य की याद दिलाता है। यहाँ की रामराज्य मुद्रा को नीदरलैण्ड्स और संयुक्त राज्य अमेरिका के ‘आयोवा’ राज्य में कानूनी मान्यता दी गई है। इस मुद्रा में 1, 5 और 10 के नोट हैं। इन मुद्राओं में एक ओर देवनागरी लिपि में ‘विश्व शान्ति राष्ट्र’, भगवान् श्रीराम का चित्र और 18 लिपियों में ‘राम’ मुद्रित है। श्रीराम के चित्र के नीचे देवनागरी लिपि में ‘राजा राम-राम ब्रह्म परमारथ रूपा’ छपा है। नोट की दूसरी ओर कल्पवृक्ष, कामधेनु और विश्व शान्ति राष्ट्र के ध्वज का चित्र है तथा देवनागरी लिपि में ‘रामराज्य मुद्रा’ और ‘महर्षि वैदिक विश्व प्रशासन – रामराज्य’ मुद्रित है। इन मुद्राओं को यहाँ के केन्द्रीय बैंक ने 26 अक्टूबर, 2001 को जारी किया है। तीस गाँवों और शहरों की सौ से अधिक दुकानों में ये नोट चल रहे हैं। राम की विनिमय-दरें इस प्रकार हैं :
1 राम = 10 यूएस डॉलर्स $
1 राम = 11.0827 यूरो €
1 राम = 1278.30 येन ¥
1 राम = 479.29 रुपये ₹
1 राम = 15.080 लेबनीज पाउंड ل.ل

इस समय कोई एक लाख ‘राम’ नोट चल रहे हैं। लोग इसे फोर्टिस बैंक में जाकर भुना सकते हैं। कागजी मुद्रा की तरह 10 ‘राम’ की स्वर्ण-मुद्रा भी प्रचलन में है। इसमें एक ओर भगवान् राम का चित्र और दूसरी ओर कल्पवृक्ष तथा कामधेनु का चित्र उत्कीर्ण है।