item-thumbnail

चाणक्य नीति : प्रशासनिक अधिकारियों की जिम्मेदारी

October 13, 2018

प्रो लल्लन प्रसाद लेखक प्रसिद्ध अर्थशास्त्री हैं। चन्द्रगुप्त मौर्य का शासन काल भारतीय इतिहास का स्वर्ण युग माना जाता है। इसके विधाता निर्माता, सलाहका...

item-thumbnail

चाणक्य और पारदर्शी प्रशासन

May 21, 2018

प्रो. लल्लन प्रसाद लेखक प्रसिद्ध अर्थशास्त्री हैं। चाणक्यकालीन भारत गणतांत्रिक राजतन्त्र था। विश्व इतिहास में ऐसे कम उदाहरण मिलते हैं जिनमे राजतन्त्र ...

item-thumbnail

चाणक्य नीति राजकोष का अपव्यय और गबन

March 14, 2018

प्रो. लल्लन प्रसाद लेखक प्रसिद्ध अर्थशास्त्री हैं। नीरव मोदी और पंजाब बैंक घोटाले ने देश को स्तब्ध कर दिया है। इसलिए नहीं कि ऐसा घोटाला पहले नहीं हुआ।...

item-thumbnail

दूरद्रष्टा थे आचार्य चाणक्य

January 28, 2016

प्रो. बजरंगलाल गुप्त राजतंत्रा के काल में देश की एकात्मता के सामने महान संकट खड़ा हो गया था, ऐसे समय में किसी ने साहस करके संक्रमण की दिशा में देश को ल...

item-thumbnail

कैसा हो सशक्त नेतृत्व ?

November 20, 2015

कैसा हो सशक्त नेतृत्व ? राधाकृष्णन पिल्लै लेखक कौटिलीय अर्थशास्त्र के विद्वान हैं। नेतृत्व के मौजूदा परिदृश्य में, हम नैतिकता की कमी पाते हैं। भले ही ...

item-thumbnail

चाणक्य की अर्थनीति

0 March 25, 2015

  प्रो.लल्लन प्रसाद प्रख्यात आर्थिक विचारक एवं अध्यक्ष, कौटिल्य फाउंडेशन आचार्य चाणक्य ने ऐसे राज्य की परिकल्पना की थी जहां राष्ट्र का स्वामी सबको सुर...

item-thumbnail

चाणक्य की दण्डनीति

0 January 21, 2015

प्रो.लल्लन प्रसाद प्रख्यात आर्थिक विचारक एवं अध्यक्ष, कौटिल्य फाउंडेशन न्यायाधीश को कौटिल्य अर्थशास्त्र में धर्मस्थ की संज्ञा दी गयी है। दण्डनीति धर्म...

item-thumbnail

कैसा हो मन्त्रिपरिषद चाणक्य की दृष्टि में

0 November 17, 2014

प्रो.लल्लन प्रसाद प्रख्यात आर्थिक विचारक एवं अध्यक्ष, कौटिल्य फाउंडेशन चन्द्रगुप्त मौर्य को चक्रवर्ती सम्राट बनाने के बाद चाणक्य ने मुद्राराक्षस को उन...