item-thumbnail

प्रयोगशालाओं की रानी पत्तागोभी

March 21, 2016

जवाहर लाल कौल लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। रोम में एक पुरानी कहानी कही जाती है। बीमारियों से तंग आकर शासकों ने एक बार गुस्से में नगर के सभी चिकित्सकों को ...

item-thumbnail

स्वास्थ्य के दो पहरेदार

January 28, 2016

जवाहर लाल कौल लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। जार्जटाउन विश्वविद्यालय के संक्रामक रोग महाविद्यालय के निदेशक डाक्टर विंसेंट गर्गूसी की प्रयोगशाला में काम करने...

item-thumbnail

विकास के लिए धरती का सौदा

November 20, 2015

विकास के लिए धरती का सौदा जवाहर लाल कौल लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। वायुमण्डल में गर्मी के बढ़ने से दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है, यह सबसे अधिक पश्चिम के ...

item-thumbnail

आवश्यक नहीं है वैराग्य शिवमय होने के लिए

October 9, 2015

जवाहर लाल कौल अचानक कश्मीर शैव दर्शन और अभिनव गुप्त की अपने देश में भी खोज होनी आरम्भ हो गई। यह खोज हमें अभिनव गुप्त से पहले की शैव दर्शन की एक विस्तृ...

item-thumbnail

जरुरी है आयुर्वेद का आधुनिकीकरण

0 March 25, 2015

जवाहर लाल कौल लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। आयुर्वेंद का महत्त्व इस बात में है कि यह विश्व की अन्य चिकित्सा प्रणालियों से भिन्न केवल रोगोपचार पद्धति भर नही...

item-thumbnail

बहुत कुछ कहते हैं ये लौह स्तम्भ

0 January 16, 2015

जवाहर लाल कौल लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। मेहरौली के पास प्राचीन लौह स्तभ आज हमें चुनौती दे रहा है कि मेरी पहचान करके दिखाओ। इसका किसने निर्माण कराया और ...

item-thumbnail

पर्यावरण और भारतीय दृष्टि

0 November 17, 2014

जवाहरलाल कौललेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। विज्ञान के विकास की तीन श्रेणियां होतीं हैं। पहली श्रेणी प्रेक्षण की होती है, जिसमें मनुष्य प्रकृति के क्रियाकलाप...

1 2