item-thumbnail

इतिहास को किस तरह देखें

December 15, 2016

बनवारी लेखक गांधीवादी विचारक हैं। हम पराधीनता के अपने पिछले इतिहास को किस दृष्टि से देखें? इतिहासविद् सदा यह दावा करते हैं कि उसे वस्तुपरक दृष्टि से द...

item-thumbnail

अंग्रेजों की लिखी पराजय गाथा

October 22, 2016

बनवारी लेखक गांधीवादी विचारक हैं। ग्यारह जून को लखनऊ के एक समारोह में बोलते हुए गृहमंत्राी राजनाथ सिंह ने कहा कि ग्यारहवीं शताब्दी में बहराइच की लडाई ...

item-thumbnail

इतिहास : योद्धाओं के अछूत बनने का

July 6, 2016

तुफैल चतुर्वेदी लेखक प्रख्यात शायर, आलोचक व लफ्ज़ पत्रिका के संपादक हैं। आपको पंचतंत्रा की बूढ़े पिता और उसके चार बेटों की कहानी याद होगी। बूढ़े के बेटे...

item-thumbnail

महान नहीं होते विदेशी शासक

July 6, 2016

बनवारी लेखक गांधीवादी विचारक हैं। प्रतापगढ़ में महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण करते हुए गृहमंत्राी राजनाथ सिंह ने हमारे इतिहास लेखन की एक विसंगति ...

item-thumbnail

क्या परतंत्र है हमारा इतिहास

March 21, 2016

विवेक आर्य लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं । आज स्वतंत्रा भारत होते हुए भी भारतीय इतिहासकार मूलत विदेषी इतिहासकारों और मुग़लों के वेतनभोगी इतिहास लेखकों क...

item-thumbnail

आर्थिक केंद्र रहे हैं हमारे मंदिर

March 21, 2016

अजीत कुमार लेखक सेंटर फॉर सिविलाइजेशनल स्टडीज में शोधार्थी हैं। हिंदू मंदिर सदा से ही समाज तथा भारतीय सभ्यता के केंद्रबिंदु के रूप में स्थापित रहे हैं...

item-thumbnail

महाभारत : तकनीक और आर्थिक विकास का चरम

0 May 28, 2015

सूर्यकान्त बाली लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। महाभारत का काल भारत के लिए काफी वैभवपूर्ण और आर्थिक समृद्धि का काल रहा है। महाभारत के काल में तकनीकी विकास भी...

item-thumbnail

इतिहास का विस्मृत अध्याय महाराजा हेमचन्द्र विक्रमादित्य

0 November 17, 2014

बालमुकुंद पाण्डेय :राष्ट्रीय संगठन मंत्री, अखिल भारतीय इतिहास संकलन योजना। सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य, भारतीय इतिहास के विस्मृत उन चुनिन्दा लोगों म...

item-thumbnail

प्राचीन भारत की कर प्रणाली

0 September 9, 2014

हम सर्वप्रथम गणतंत्र और राजतंत्र में प्रचलित आय के और उसके स्वरुप की चर्चा करेंगे। आय न सिर्फ व्यक्ति संस्था के लिए अनिवार्य है बल्कि राजा, सामन्त के ...

1 2