item-thumbnail

गुरु नानकदेव की राष्ट्रीय दृष्टि

December 7, 2015

राजेंद्र सिंह लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। कदाचित् मध्यकालीन भारत के सन्तों और सिद्धों की श्रेणी में गुरु नानकदेव अकेली ऐसी विभूति हैं जिन्होंने इस प्राची...

item-thumbnail

कैसे बचें बेटियां

October 12, 2015

रवि शंकर आम तौर पर ऐसा कह दिया जाता है कि अपने देश में अत्यंत प्राचीन काल से ही स्त्रियों के प्रति काफी उपेक्षा भरा और शोषणकारी व्यवहार किया जाता रहा ...

item-thumbnail

प्राचीन भारत में बेटियों का महत्त्व

October 12, 2015

ज्ञानेंद्र बरतरिया इस लेख के दो उद्देश्य हैं। एक यह कि यह लेख प्राचीन भारत में कन्याओं, स्त्रियों और महिलाओं की स्थिति को यथासंभव और संक्षेप में प्रस्...

item-thumbnail

नमस्कार महामंत्र के द्वारा शारीरिक स्वास्थ्य

140 August 18, 2015

कल्पना कराला :हमारा संसार रहस्यों से भरा पड़ा है। इसमें अनन्त के रहस्य छिपे पड़े है। वे ही व्यक्ति कुछ करने में सफल हो पाते हैं, जो रहस्यों की खोज करत...

item-thumbnail

स्त्री स्वातंत्र्य के भरपूर हिमायती थे मनु

142 August 17, 2015

रवि शंकर आधुनिक विद्वानों का सबसे प्रमुख शगल है स्त्री विमर्श। विषय कोई-सा भी हो स्त्रियों का मुद्दा उसमें जोड़ ही दिया जाता है। राजनीति से लेकर सेना ...

item-thumbnail

पाश्चात्य विज्ञान बनाम भारतीय विज्ञान

101 August 10, 2015

{jathumbnail off} गुरूदत्त लेखक प्रसिद्ध विचारक और उपन्यासकार हैं। विज्ञान और विज्ञान से हमारा अभिप्राय है भारतीय विज्ञान और पाश्चात्य विज्ञान। इसका अ...

item-thumbnail

स्मार्ट सिटी : बाजार और वास्तु

135 May 28, 2015

रामेंद्र पांडे उड़ीसा की नयी राजधानी बनाते समय भुवनेश्वर शहर के आस-पास की भूमि को विकसित कर नये भुवनेश्वर शहर को पूर्व नियोजित तरीके से बसाया गया था। ...

item-thumbnail

हिंद स्वराज हिन्दुस्तान की दशा

161 February 2, 2015

महात्मा गांधी अंग्रेजी न्याय व्यवस्था में वकीलों की काफी अहम् भूमिका है। परंतु स्वयं वकील रहे महात्मा गांधी वकीलों को न्याय देने में बड़ा अवरोध मानते ...

item-thumbnail

कैसी हो आदर्श न्याय व्यवस्था ?

152 January 20, 2015

गुरूदत्त लेखक प्रसिद्ध विचारक और उपन्यासकार हैं। शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता न्याय करना है। समाज में न्याय व्यवस्था की स्थापना के लिए ही शासन की स्थाप...

item-thumbnail

क्यों उपेक्षित हैं भारतीय चिकित्सा प्रणालियां

132 September 9, 2014

रवि शंकर कैंसर और एड्स जैसे असाध्य प्रतीत होने वाले रोगों से पीडि़त इस विश्व में आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने अद्भुत प्रगति की है। आज यह ईश्वर से होड़ ल...

1 3 4 5 6