item-thumbnail

श्राद्ध और पितृपक्ष का वैज्ञानिक महत्व

September 29, 2017

डॉ. ओमप्रकाश पांडे लेखक अंतरिक्ष विज्ञानी हैं। श्राद्ध कर्म श्रद्धा का विषय है। यह पितरों के प्रति हमारी श्रद्धा प्रकट करने का माध्यम है। श्राद्ध आत्म...

item-thumbnail

सृष्टि का रहस्य जानते थे भारतीय

July 14, 2017

डॉ. ओमप्रकाश पांडे लेखक अंतरिक्षविज्ञानी हैं। सृष्टि विज्ञान के दो पहलू हैं। पहला पहलू है कि सृष्टि क्या है? आधुनिक विज्ञान यह मानता है कि आज से 13.7 ...

item-thumbnail

शब्दों से समझिए भारतीय गणित की विकास यात्रा को

July 14, 2017

सुद्युम्न आचार्य निदेशक वेद वाणी वितान, प्राच्य विद्या शोध संस्थान, सतना (म.प्र) शब्दों में भी अनेक प्रकार के परिवर्तन होते रहते हैं। ये शब्द समाज की ...

item-thumbnail

वेदों में जल और नौका विज्ञान

May 18, 2017

कृपाशंकर सिंह लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार है। ऋग्वेद मे कुएँ का उल्लेख अनेक ऋचाओं में हुआ है। इससे पता चलता है कि ऋग्वेदिक काल में सिंचाई के साधनों में क...

item-thumbnail

हजारों वर्ष पूर्व भी हम करते थे विद्युत का उपयोग

December 22, 2016

डॉ. अशोक कुमार तिवारी कहा जाता है कि बिजली का अविष्कार अंग्रेज वैज्ञानिकों वोल्टा, कूलम्ब, अम्पीयर, एडिसन, फराडे आदि ने सत्राहवीं से उन्नीसवीं शताब्दी...

item-thumbnail

सबके कल्याण के लिए बनी थी भारतीय धातुकर्म की परंपरा

October 22, 2016

आर.के.त्रिवेदी लेखक ऑर्कियोकेमिस्ट हैं। विश्व के कल्याण का भाव लेकर ही भारत में धातुकर्म विकसित हुआ था। धातुकर्म के कारण ही भारत में बड़ी संख्या में वि...

item-thumbnail

बहुत पुरानी है भारतीय धातुकर्म की परम्परा

July 7, 2016

आर.के. त्रिवेदी लेखक ऑर्कियोकेमिस्ट हैं। भारतीय परम्परा में यदि हम धातुकर्म को खोजना चाहें तो विष्णु पुराण अनुसार ईश्वर निमित्त मात्रा है और वह सृजन ह...