item-thumbnail

काव्य में छिपा है विज्ञान

October 18, 2018

सुद्युम्न आचार्य निदेशक वेद वाणी वितान, प्राच्य विद्या शोध संस्थान, सतना (म.प्र) भारत की एक परंपरा रही है कि हमने ज्ञान-विज्ञान की बातों को काव्य रूप ...

item-thumbnail

पर्यावरण के अनुकूल था हमारा विज्ञान

October 13, 2018

अजय कर्मयोगी लेखक हेमचंद्राचार्य गुरुकुल, साबरमती से जुड़े हैं। हमारे यहाँ भी विज्ञान था, परंतु हम उसे समझ नहीं पाए। आज का विज्ञान यह है कि वह कागज बन...

item-thumbnail

गंगुओं का हमारा युग और राजा भोज राजा – भोज की वैज्ञानिक परंपरा

October 13, 2018

राजीव रंजन प्रसाद लेखक एनएचपीसी में इंजीनियर तथा प्रसिद्ध लेखक हैं। हमें तो वास्कोडिगामा ने खोजा है, भारतीय उससे पहले थे ही कहाँ? पढाई जाने वाली पाठ्य...

item-thumbnail

आज भी उपयोगी है भारतीय विज्ञान

October 13, 2018

सुद्युम्न आचार्य निदेशक, वेद वाणी वितान प्राच्यविद्या शोध संस्थान, सतना विश्व भौतिकी के लिये भारत में किये गये अनेक प्राचीन अविष्कार दैनिक जीवनोपयोगी ...

item-thumbnail

अधिक उपयोगी है गणित की भारतीय विधा

October 13, 2018

डॉ. चंद्रकांत राजू लेखक प्रसिद्ध गणितज्ञ हैं। भारत में हमने गणित की जो संकल्पना विकसित की थी, वह अत्यधिक सरल, उपयोगी और व्यवहारिक थी। दुर्भाग्यवश वर्त...

item-thumbnail

परंपरा से पैदा होती है रचनात्मकता

October 13, 2018

डॉ. जितेंद्र बजाज लेखक समाजनिति अध्ययन केन्द्र, चेन्नई के निदेशक हैं। यह प्रश्न करना कि अपनी प्राचीन ज्ञान परंपरा पर हमें क्यों चर्चा करनी चाहिए, स्वय...

item-thumbnail

यज्ञोपवीत और उसका विज्ञान

July 25, 2018

डॉ. ओमप्रकाश पांडे लेखक प्रसिद्घ अंतरिक्षविज्ञानी हैं। भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है। सप्ताह में सात दिन होते हैं तो नौ त्योहार होते हैं। सभी त...

item-thumbnail

कैसे नापी भास्कराचार्य ने पृथ्वी की परिधि

May 21, 2018

सुद्युम्न आचार्य निदेशक, वेद वाणी वितान, प्राच्य विद्या शोध संस्थान,सतना(म.प्र.) महाविज्ञानी आर्यभट्ट के ग्रन्थों में भूपरिधि की नाप का विधि का अस्पष्...

item-thumbnail

नवरात्रों का वैज्ञानिक महत्त्व

March 19, 2018

डॉ. ओमप्रकाश पांडेय लेखक प्रसिद्ध अंतरिक्षविज्ञानी हैं। भारतीय अवधारणा में हिरण्यगर्भ जिसे पाश्चात्य विज्ञान बिग बैंग के रूप में देखता है, से अस्तित्व...

item-thumbnail

क्यों नहीं लगती लौह स्तंभों पर जंग वज्रसंघात लेप

March 15, 2018

अजय कर्मयोगी लेखक साबरमती गुरुकुल से संबद्ध है। लौहस्तंभ को देखकर किसे आश्चर्य नहीं होता। यह किस धातु का बना कि आज तक उस पर जंग नहीं लगा। ऐसी तकनीक गु...

1 2