item-thumbnail

थाईलैण्ड की अयोध्या

May 17, 2019

डॉ. जितेन्द्रकुमार सिंह संजय लेखक साहित्य, कला, संस्कृति एवं इतिहास के अध्येता हैं। अयोध्या का नाम लेते ही स्मृति-पटल पर सरयू के किनारे अवस्थित सूर्यव...

item-thumbnail

वर कन्हरा की चामुण्डा प्रतिमा

April 10, 2019

डॉ. जितेन्द्रकुमार सिंह संजय सोनभद्र जनपद की घोरावल तहसील के शैवतीर्त शिवद्वार (सतद्वारी) के नैऋत्य कोण पर अवस्थित वर-कन्हरा नामक गाँव में भगवती चामुण...

item-thumbnail

काल्पनिक उपन्यास जैसा है आर्य आक्रमण सिद्धांत

December 24, 2018

ज्ञानेंद्र बरतरिया आर्यो के भारत पर आक्रमण की कथा कुछ इस प्रकार बताई जाती है। ईसा से करीब 1500 वर्ष पहले, उत्तर भारत पर आर्य नामक नस्ल के लोगों ने हमल...

item-thumbnail

झारखंड की सनातन परंपरा हराडीह

October 18, 2018

सुुधीर शर्मा लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं। बहुत दिन नहीं हुए हैं, जब देश में माँ दूर्गा और महिषासुर को लेकर एक विवाद खड़ा करने का प्रयास किया गया था। देश...

item-thumbnail

भारतीय खेल है साँप-सीढ़ी

March 15, 2018

गुंजन अग्रवाल लेखक द कोर पत्रिका के कार्यकारी संपादक हैं। बचपन में हम सभी ने साँप-सीढ़ी का खेल जरूर खेला होगा। इस खेल में 1 से लेकर 100 तक के खाने बने...

item-thumbnail

बौद्ध एवम् वैदिक संस्कृति के मिलन स्थल का नाम है विश्वविख्यात भरहुत स्तूप

March 15, 2018

सुद्युम्न आचार्य निदेशक, वेद वाणी वितान प्राच्यविद्या शोध संस्थान,सतना विन्ध्य की पावन धरा में हजारों वर्षों तक अपने पूरे गौरव, वैभव के साथ भरहुत स्तू...

item-thumbnail

झारखंड का हम्पी नवरतनगढ़

January 9, 2018

सुधीर शर्मा लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं। झारखंड का नाम लेते ही साधारणत: जनजातीय लोगों के चित्र ही मन में उभरते हैं। समझा जाता है कि विकास की दौड़ में पि...

item-thumbnail

भाषाएँ और एकात्मता

September 29, 2017

प्रो. हेमराज मीणा दिवाकर लेखक केन्द्रीय हिन्दी संस्थान के पूर्व प्राध्यापक हैं। भारत के सात बहन-राज्य पूर्वाेत्तर में हैं। असम, अरूणाचल प्रदेश, मणिपुर...

item-thumbnail

विकास की भेंट चढ़ते उत्तराखंड के परंपरागत जल स्रोत

May 17, 2017

आशीष कुमार ‘अंशु’ लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं। उत्तराखंड के कुमाऊ मंडल में नौलों की एक संस्कृति रही है। इस बार अल्मोड़ा यात्रा के दौरान उस सं...

item-thumbnail

कब होगा सरस्वती का उद्धार?

March 27, 2017

विश्व-नागरिकता का विचार बीजरूप में सरस्वती-संस्कृति में विद्यमान था। सरस्वती-सभ्यता की विश्वबंधुत्व, ’सर्वे भवन्तु सुखिनः’ प्राणीनां आर्त्तिनाशनम्’ आ ...

1 2