item-thumbnail

कौन झुठला सकता है राजस्व-अभिलेख को?

August 21, 2019

स्व. राजेंद्र सिंह अयोध्या मामले में हिंदुओं के पक्ष के एक अत्यंत ही महत्त्वपूर्ण गवाह थे। रोचक बात यह है कि उन्हें रा. स्व. संघ या विश्व हिंदू परिषद्...

item-thumbnail

भारतीय धरोहर जुलाई अगस्त 2019

July 23, 2019

राष्ट्ररक्षा ही है राजनीति मरते बच्चे, पनपती महामारी गोपालन से आती है समृद्धि आज की समस्याओं का समाधान है रामचरितमानस मनमोहक है असम को लोकगीत समुद्र य...

item-thumbnail

कहीं कैंसर हो जाए…

July 23, 2019

स्कंद शुक्ला लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। नेहा की मम्मी उसके लिए बाज़ार से आइसक्रीम लायी हैं। वादीलाल, मदर डेयरी या जो चाहे नाम सोच लीजिए। उसका छोटा ...

item-thumbnail

आज भी प्रासंगिक है रामचरितमानस

July 23, 2019

उमेश पाठक लेखक सूकरक्षेत्र शोध संस्थान, उ.प्र. से संबंद्ध हैं। भारतीय संस्कृति के सजग प्रहरी गोस्वमी तुलसीदास जी कालजयी व्यक्तित्व व कृतित्व के धनी है...

item-thumbnail

क्या लोथल एक वैदिक शहर था? वास्तु द्वारा प्रमाण

July 23, 2019

भारतीय धरोहर मई-जून 2009 अंक माईकल ए क्रेमो मेरी मुख्य रूचि मनुष्य के प्राचीनकालीन निवास के पुरातात्विक प्रमाणों को जानने की रही है किन्तु मैं अन्य बा...

item-thumbnail

शंख बजाने के हैं चौंकाने वाले फायदे

July 8, 2019

डॉ. डी के गर्ग भारतीय परिवारों में और मंदिरो में में सुबह और शाम शंख बजाने का प्रचलन है। अगर आप रोजाना शंख बजाते है, तो इससे आपको काफी लाभ हो सकता है।...

item-thumbnail

कैसे खाएं बासी भोजन ?

July 8, 2019

ममता रानी लेखिका स्वतंत्र पत्रकार हैं। बासी भोजन हमारे सभी धर्मशास्त्रों में वर्जित यानी न खाने योग्य ही माना गया है। आयुर्वेद भी स्वस्थ रहने के लिए ह...

item-thumbnail

जब तक जीएं, घी खाएँ

July 8, 2019

डॉ. दीप नारायण पाण्डेय लेखक राजस्थान सरकार में पर्यावरण सचिव हैं। भोजन में प्रतिदिन घी खाना चाहिये या नहीं? इस प्रश्न का उत्तर इस बात पर निर्भर करता ह...

item-thumbnail

विश्वगुरु भारत से साक्षात् संवाद

July 8, 2019

विवेक भटनागर लेखक इतिहासविद् हैं। भारत एक विचार और संस्कृति के रूप में पोषित राष्ट्र और उसकी अवधारणा है। विश्व के इतिहास में भारत का स्थान मानव जीवन क...

item-thumbnail

त्रिपुरारि भगवान शिव और बोडे का नियम

July 8, 2019

अभिनंदन शर्मा लेखक भारतीय संस्कृति के अध्येता हैं। तारकासुर नाम के एक दैत्य के तीन पुत्र थे, जिनके नाम तारकाक्ष, विद्युन्माली तथा कमलाक्ष थे। ये तीनों...

1 2 3 63